मौर्या:कालकेय

जरूर पढ़े और शेयर करे ,, भोकिष्टो के दुष्प्रचार से समाज को बचाये,, शुवरो की गन्दगी समाज में न पनपने दे।।

दुर्गा सप्तशती वर्णित असुरों का मूल क्षेत्र -

 असुरों का मूल केन्द्र मध्य-युग में असीरिया कहा जाता था, जो आजकल सीरिया तथा इराक हैं। इसकी राजधानी उर थी, जो इराक का प्राचीनतम नगर है। महिषासुर के बारे में भी स्पष्ट लिखा है कि वह पाताल (भारत के विपरीत क्षेत्र) का निवासी  था। उसे चेतावनी भी दी गयी थी कि यदि जीवित रहना चाहते हो तो पाताल लौट जाओ-यूयं प्रयात पाताल यदि जीवितुमिच्छथ (दुर्गा सप्तशती ८/२६)। इसी अध्याय में (श्लोक ४-६) असुरों के क्षेत्र तथा भारत के सीमावर्त्ती क्षेत्रो के उल्लेख किये गए हैं   ।

                जहां असुरों का आक्रमण हुआ था-कम्बू-आजकल कम्बुज कहते हैं जिसे अंग्रेज कम्बोडिया कहते हैं। कोटि-वीर्य = अरब देश। कोटि = करोड़ का वीर्य (बल) १०० कोटि = अर्व तक है अतः इसे अरब कहते हैं। धौम्र (धुआं जैसा) को शाम (सन्ध्या = गोधूलि) कहते थे जो एसिया की पश्चिमी सीमा पर सीरिया का पुराना नाम है। शाम को सूर्य पश्चिम में अस्त होता है अतः एसिया की पश्चिमी सीमा शाम (सीरिया) है। इसी प्रकार भारत की पश्चिमी सीमा के नगर सूर्यास्त (सूरत) रत्नागिरि (अस्ताचल = रत्नाचल) हैं। कालक = कालकेयों का निवास काकेशस (कज्जाकिस्तान,उसके पश्चिम काकेशस पर्वतमाला), दौर्हृद (ह्रद = छोटे समुद्र, दो समुद्र भूमध्य तथा कृष्ण सागरों को मिलानेवाला पतला समुद्री मार्ग) = डार्डेनल (टर्की तथा इस्ताम्बुल के बीच का समुद्री मार्ग)। इसे बाद में हेलेसपौण्ट (ग्रीक में सूर्य क्षेत्र) भी कहते थे, क्योंकि यह उज्जैन से ठीक ७ दण्ड = ४२ अंश पश्चिम था। प्राचीन काल में लंका तथा उज्जैन से गुजरने वाली देशान्तर रेखा को शून्य देशान्तर रेखा मानते थे तथा उससे १-१ दण्ड अन्तर पर विश्व में ६० क्षेत्र थे जिनके समय मान लिये जाते थे। ये सूर्य क्षेत्र थे क्योंकि सूर्य छाया देखकर अक्षांश-देशान्तर ज्ञात होते हैं। आजकल ४८ समय-भाग हैं।
                अब विवेचना करते है दुर्गासप्तदशि के मौर्य शब्द पर ,, कुछ कुकुर की औलाद भोकिष्ट कुत्ते ,, उस शब्द को आधार बना कर मौर्यो को राक्षस कहते फिरते है। जबकि इस पुस्तक में जिस मौर्य शब्द का उल्लेख है ,, इसका मौर्य साम्राज्य या भारतीय मौर्यो से कोई सम्बन्ध स्थापित नही होता ,, सिर्फ शाब्दिक समानता के कारण इन शुवर के बच्चों ने दुष्प्रचार करने और समाज में भ्रम फैला कर समाज का धर्मातरण करवाने का ठेका लिया है।
                निम्नवत देखिये

           मौर्य = मुर /  पाणिनी के अनुसार मौर्य शब्द की उत्पत्ति मुर धातु शब्द से हुई है।

मोरक्को को प्राचीन समय में असुरो का क्षेत्र माना गया है तथा यहाँ के निवासियों को आज भी मुर मौर्य के नाम से जाना जाता हैं। यही मुर शब्द संस्कृत में मौर्य हो जाता है। मुर का अर्थ लोहा है, मौर्य (मोरचा) के दो अर्थ हैं, लोहे की सतह पर विकार या युद्ध-क्षेत्र (लोहे के हथियारों से युद्ध होते हैं)। जंग शब्द के भी यही २ अर्थ हैं। इस प्रकार अर्थ का अनर्थ बना कर समाज में हगने वाले यह भोकिष्ट असल में टट्टीवादी शुवर है। जिनकी जानकारी का स्तर तो कुछ भी नही है किन्तु भोक भोक कर दुनिया के सामने अपनी विद्वता दिखाते फिरते है।

आगे देखिये
कालकेय = कालक असुरों की शाखा। मूल कालक क्केशस के थे, उनकी शाखा कज्जाक हैं। इसके पूर्व साइबेरिया (शिविर) के निवासी शिविर (टेण्ट) में रहते थे तथा ठण्ढी हवा से बचने के लिये खोल पहनते थे, अतः उनको निवात-कवच कहते थे। अर्जुन ने उत्तर दिशा के दिग्विजय में कालकेयों तथा निवातकवचों को पराजित किया था (३१४५ ई.पू) जब आणविक अस्त्र का प्रयोग हुआ था जिसका प्रभाव अभी भी है।
यहां देवी को देवताओं की सम्मिलित शक्ति कहा गया है (अध्याय २, श्लोक ९-३१)। आज भी सेना, वाहिनी आदि शब्द स्त्रीलिंग हैं। उअनके अनुकरण से अंग्रेजी का पुलिस शब्द भी स्त्रीलिंग है।
दुर्गा सप्तशती अध्याय ११ में बाद की घटनायें भी दी गयी हैं। श्लोक ४२-नन्द के घर बालिका रूप में जन्म (३२२८ ई.पू.) जो अभी विन्ध्याचल की विन्ध्यवासिनी देवी हैं। विप्रचित्ति वंशज दानव (श्लोक ४३-४४)-असुरों की दैत्य जाति पश्चिम यूरोप में थी, जो दैत्य = डच, ड्यूट्श (नीदरलैण्ड, जर्मनी) आदि कहते हैं। पूर्वी भाग डैन्यूब नदी का दानव क्षेत्र था। दानवों ने मध्य एसिया पर अधिकार कर भगवान् कृष्ण के समय कालयवन के नेतृत्व में आक्रमण किया था। इसके बाद (श्लोक ४६) १०० वर्ष तक पश्चिमोत्तर भारत में अनावृष्टि हुयी थी (२८००-२७०० ई.पू.) जिसमें सरस्वती नदी सूख गयी तथा उससे पूर्व अतिवृष्टि के कारण गंगा की बाढ़ में पाण्डवों की राजधानी हस्तिनापुर पूरी तरह नष्ट हो गयी जिसके कारण युधिष्ठिर की ८वीं पीढ़ी के राजा निचक्षु को कौसाम्बी जाना पड़ा। उस समय शताक्षी अवतार के कारण पश्चिमी भाग में भी अन्न की आपूर्त्ति हुयी तथा असुरों को आक्रमण का अवसर नहीं मिला। उसके बाद नबोनासिर (लवणासुर) आदि के नेतृत्व में असुर राज्य का पुनः उदय हुआ (प्रायः १००० ई.पू.) जिनको दुर्गम असुर (श्लोक ४९) कहा गया है। उनके कई आक्रमण निष्फल होने पर उनकी रानी सेमिरामी ने सभी क्षेत्रों के सहयोग से ३५ लाख सेना एकत्र की तथा प्रायः १०,००० नकली हाथी तैयार किये (ऊंटों पर खोल चढ़ा कर)। इस आक्रमण के मुकाबले के लिये आबू पर्वत पर पश्चिमोत्तर के ४ प्रमुख राजाओं का संघ बना-इसके अध्यक्ष शूद्रक ने उस अवसर पर ७५६ ई.पू. में शूद्रक शक चलाया। ये ४ राजा देशरक्षा में अग्री (अग्रणी) होने के कारण अग्निवंशी कहे गये-परमार, प्रतिहार, चाहमान, चालुक्य। यह मालव-गण था जो श्रीहर्ष काल (४५६ ई.पू.) तक ३०० वर्ष चला। इसे मेगास्थनीज ने ३०० वर्ष गणतन्त्र काल कहा है। इस काल में एक और आक्रमण में ८२४ ई.पू.) में असुर मथुरा तक पहुंच गये जिनको कलिंग राजा खारावेल की गज सेना ने पराजित किया (खारवेल प्रशस्ति के अनुसार उसका राज्य नन्द
शक १६३४ ई.पू. के ७९९ वर्ष बाद आरम्भ हुआ।

Comments

Popular posts from this blog

A VIEW OF MAURYA

INDUS VALLY

दसरथजातकवण्णना